Saturday, October 30, 2010

दादा जी साईकिल वाले


इंसान जिस भस्मासुर को पैदा करता है, वह भस्मासुर उसे ही लील जाता है। क्यों कि वह इंसान ईश्वर नहीं होता जो भस्मासुर को भस्म कर सके। इन्दीरा गाँधी ने एक भस्मासुर पैदा किया था जिसने उन्हें ही भस्म कर दिया। और भस्म हो गया बहुत कुछ जिसके मलबे पर लाचार हम खड़े हैं।
..........................................................................................................................................................................


मैं ज्यों ज्यों बड़ा होता गया,
मेरी साईकिल की ऊंचाई भी बढ़ती गई।
और उन सभी साईकिलों को कसा था,
पटना कॉलेज के सामने वाले “दादा जी साईकिल वाले” नाना ने।

अशोक राजपथ पर दौड़ती, चलती, रेंगती
ज़्यादातर साईकिलें उनके हाथों से ही कसी थीं।
पूरा पटना ही जैसे उनके चक्के पर चल रहा था।
हाँफ रहा था।
गंतव्य तक पहुँच रहा था।

वहाँ से गुज़रने वाले सभी,
वहाँ एक बार रुकते ज़रूर थे।
सत सिरी अकाल कहने के लिए।
चक्के में हवा भरने के लिए।
नए प्लास्टिक के हत्थे या झालर लगवाने के लिए।
चाय पी कर, साँस भर कर, आगे बढ़ जाने के लिए।

पछिया चले या पूरवईया, पूरी फ़िज़ा में उनके ही पंप की हवा थी।

हमारे स्कूल की छुट्टी जल्दी हो गई थी।
हम सबने एक साथ दादा जी की दुकान पर ब्रेक लगाई।
पर दादा जी की दुकान ख़ाली हो रही थी।
तक़रीबन ख़ाली हो चुकी थी।

मुझे वहाँ साईकिल में लगाने वाला आईना दिखा,
मुझे वह चाहिए था, मैंने उठा लिया।
इधर उधर देखा तो वहाँ उनके घर का कोई नहीं था।

शाम को छः बजे दूरदर्शन ने पुष्टि कर दी कि इन्दीरा गाँधी का देहांत हो गया।

चार दिन बाद स्कूल खुले और हमें घर से निकलने की इजाज़त मिली।

शहर, टेढ़े हुए चक्के पर घिसट रहा था।
हवा सब में कम कम थी।

स्कूल खुलने पर हम सब फिर से वहाँ रुके, हमेशा की तरह।
मैंने आईने का दाम चुकाना चाहा,
पर दादा जी, गुरु नानक की तरह सिर झुकाए निर्विकार से बैठे थे।
उनके क्लीन शेव बेटे ने मेरे सिर पर हाथ फेर कर कहा, “रहने दो”।
एक दानवीर दान कर रहा था आईना।

उसके बाद लोग अपने अपने चक्के में हवा अलग अलग जगह से भरवाने लगे।
उसके बाद हर गली में पचास पैसे लेकर हवा भरने वाले बैठने लगे।

12 comments:

अभय तिवारी said...

बहुत मार्मिक कविता है!

दीपशिखा वर्मा / DEEPSHIKHA VERMA said...

इंदिरा जी ने कई बड़े काम किये , पर ये कालिख कभी नहीं मिटेगी ..
सच में दिल दहलाने वाला काल था , चौरासी !
रचना में गहरी संवेदना है !

dost said...

seriously ... bahut dil ko chhu lene waali hai ... iss kvita se mujhe bhi eik ghatana yaad .. aa gayi ... jo mere man mashtishk se kabhi mit nahin sakati ... bahut chhota tha tab lekin ye image nahin bhul paunga kabhi ... gorakhpur mein child specialist hua karate the .. dr balwant singh ... meri tabiyat theek nahin rahati thi to unaki dawaiyan chalati thi ... jab danger bhadake to ... to log pata nahin kiss kiss kartoot par utar aaye the .. kuchh log .. sardaro ke saman gaddhe mein fenk rahe the ... maine dekha ki kisi nein dr balwant singh ka name plate bhi usse gaddhe mein fenka hua hai ... tab samajh mein nahin aaya tha .. ab samajh mein aata hai ... ye kavita padh kar dr balwant singh phir se taaze ho gaye ...

shweta said...

Interesting, you have touched one side of the story, I will tell you the other side. When Mrs.Gandhi was shot, half my family members were in police and most of them posted in the capital of our country, including my dad. It was the anniversary of C.R.P.F, in which all of us had gone, it was this function in which Mrs.Gandhi had refused to come, if she would have come history would have been different. We got the news first about her assassination, dad had another officer and his family with us, unfortunately they were Sikhs, we all rushed to our houses. From the control room we were the first to know that she had died, Delhi burned, along with lot of Sikhs also got burned; but the point is we met lot of Sikh families who celebrated Diwali when Mrs.Gandhi died, the Gurdwara had fest for people, becoz a sikh had taken revenge.
That is another side of the story. Punjab burned becoz of these people......think abt that, so many hindu lost their lives becoz of them, they used to separate hindu from sikhs in the bus and gun them down, think abt that

Ghulam Kundanam said...
This comment has been removed by the author.
Ghulam Kundanam said...

hamnee aisi galtiya, Sri Lanka me bhi ki thi, Rajiv ji ko bhugtna pada. Pakistaan ne ki thi Benjeer ko bhugatna pada. par yahsab isliye ho raha hai kyoki rajniti me bahoot munaafa hai, jaan ki parwah kiye bagair apni jholi bharne ke liye nafrat ki jholi kholi jati jaii.

deepti said...

very touchy

Aloka said...

indra gandhi ko har log yad kiye hoge magr frid khan ne likh kar jo yad kiya hai o dil ko hi nahi samj ke us kal dard ko yad kar liya jo humne dafan karne ki koshishi kar rahe the. pr sach to sach hai. o samye tha har dil me kuch to likh gaya woh samey. pr aap ne jo likh o koi nahi
aloka

Aloka said...

indra gandhi ko har log yad kiye hoge magr frid khan ne likh kar jo yad kiya hai o dil ko hi nahi samj ke us kal dard ko yad kar liya jo humne dafan karne ki koshishi kar rahe the. pr sach to sach hai. o samye tha har dil me kuch to likh gaya woh samey. pr aap ne jo likh o koi nahi
aloka

Aloka said...

indra gandhi ko har log yad kiye hoge magr frid khan ne likh kar jo yad kiya hai o dil ko hi nahi samj ke us kal dard ko yad kar liya jo humne dafan karne ki koshishi kar rahe the. pr sach to sach hai. o samye tha har dil me kuch to likh gaya woh samey. pr aap ne jo likh o koi nahi
aloka

जनविजय said...

फ़रीद भाई! बड़ी शानदार कविताएँ लिखते हैं आप। सभी कविताएँ अद्भुत्त हैं । मैं तो आपका मुरीद हो गया। दादा जी, पानी, पागल, गंगा मस्जिद और वह बोल रही है- सभी कविताएँ कमाल की हैं। मैं ख़ुश हूँ कि हिन्दी को एक और अच्छा और बड़ा कवि मिला। आपसे बिना पूछे ही आपका नाम और आपकी कविताएँ कविता कोश में जोड़ दी हैं । आशा है, मेरी इस धृष्टता को क्षमा कर देंगे आप?
सादर

Farid Khan said...

मित्रों आप सबका बहुत बहुत आभार।
जनविजय जी आपका आभार कि आपने कविता कोश से मुझे जोड़ दिया।